News Description
स्वच्छता सर्वेक्षण पूरा, कई कमजोर पहलु बन सकते अडंगा

यमुनानगर : ट्विन सिटी में स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 पूरा हो गया है। सर्वेक्षण से जुड़े आवश्यक दस्तावेजों के संबंधित रिपोर्ट मंत्रालय के पास चली गई। पिछली बार स्वच्छता रैं¨कग में शहर 346वें नंबर पर था, लेकिन इस बार सुधार के लिए भरसक प्रयास किए जा रहे हैं। अब देखना यह है कि स्वच्छता रैं¨कग में शहर कहां जगह बनाएगा? कई कमजोर पहलु अडंगा साबित हो सकते हैं।

हालांकि नगर निगम की ओर से भरसक प्रयास किए जा रहे हैं। औद्योगिक एरिया के जिन क्षेत्रों में आज तक झाड़ू नहीं लगी, वहां भी सफाई की जा रही है। नगर निगम के वाट्स एप ग्रुप पर कचरे की फोटो डलते ही तुरंत कार्रवाई हो रही है। इसके अलावा नगर निगम की ओर से स्कूलों में पोस्टर प्रतियोगिता व विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से लोगों को जानकारी दी जा रही है। शहर में जगह-जगह पोस्टर व होर्डिंग्ज लगे हुए हैं। रविवार को छूट्टी के दिन भी कर्मचारी सफाई में जुटे हुए देखे गए। नेशनल हाइवे व सड़कों के किनारे वर्दी पहने कर्मचारियों ने सफाई की।

शहर में ठोस कचरे का प्रबंधन न होना कमजोर पहलु है। बीते करीब चार वर्ष से सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट बंद पड़ा हुआ है। यह प्लांट कैल में स्थित है, लेकिन बंद होने के कारण कचरा नेशनल हाइवे तक पहुंच गया है। इसके अलावा हमीदा हेड, मिल्ट्री ग्रांउड व पश्चिमी यमुना नहर किनारे कचरे के ढेर लगे हुए हैं। जिसके कारण स्वच्छता अभियान को भी पलीता लग रहा है और आसपास के लोगों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।