News Description
ओरिस बिल्डर के खिलाफ आवंटियों ने किया एमजी रोड जाम

गुरुग्राम: ग्रीनोपोलिस प्रोजेक्ट के आवंटियो ने शनिवार को ओरिस बिल्डर के खिलाफ एमजी रोड पर जाम लगा दिया। लगभग आधे घंटे तक एमजी रोड जाम रहा और वाहनों की लंबी-लंबी कतारें लग गईं। डीएलएफ फेज दो पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जाम खुलवाया। इसके बाद आवंटियों ने जे ब्लॉक स्थित ओरिस कार्यालय के बाहर बिल्डर के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

आवंटियों से मिली जानकारी के अनुसार सेक्टर 89 स्थित ओरिस ग्रीनोपोलिस प्रोजेक्ट का गत दिसंबर में डीटीसीपी ने लाइसेंस रद कर दिया। यहीं नहीं बिल्डर ने आवंटियों से ईडीसी एवं आइडीसी के नाम पर वसूले 43 करोड़ रुपये भी सरकार को नहीं दिए, जिसकी वजह से हरियाणा रियल एस्टेट रेगूलेटरी अथॉरिटी में रजिस्ट्रेशन भी रद कर दिया गया है। इन सबके बावजूद बिल्डर के पास इन समस्याओं से निपटने के लिए कोई ठोस रणनीति नहीं है। इस प्रदर्शन में हिस्सा लेने के लिए बिल्डर के कार्यालय पर 300 से अधिक आवंटी मौजूद रहे।

ग्रीनोपोलिस वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान रवि प्रसाद, ललित खन्ना, डॉ रूचि निगम, पूजा खुराना, एलविन जोय जॉर्ज इत्यादि आवंटियों ने बताया कि ग्रीनोपोलिस का यह प्रोजेक्ट लगभग 40 एकड़ में है, जिसमें कुल 29 टावर व 1800 फ्लैट हैं। प्रोजेक्ट की प्रीलां¨चग 2012 में हुई थी और 2015 तक पूरा किया जाना था, लेकिन अब निर्माण कार्य बिल्कुल ठप है।

इस प्रोजेक्ट के माध्यम से बिल्डर ने लगभग 1800 करोड़ रुपये वसूल लिए हैं लेकिन अब काम करने की नीयत नहीं है।

- ललित खन्ना, ग्रीनोपोलिस वेलफेयर एसोसिएशन

ओरिस की ही नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि 3सी कंपनी से जल्द से जल्द फ्लैटों का निर्माण कराया जाए और आवंटियों को उनके आशियाने उपलब्ध कराएं।

- वरूण जुनेजा, आवंटी

....

ओरिस ने इस प्रोजेक्ट में निर्माण के लिए 3सी के साथ करार किया था लेकिन 3सी प्रबंधन ने भी साइट पर पिछले दो साल में कोई काम नहीं किया।

-महुआ, आवंटी

लाइसेंस रद होने के बाद अब हमे अपने निवेश को लेकर असुरक्षा महसूस हो रही है लेकिन बिल्डर के पास कोई संतोषजनक जवाब नहीं है।

- राहुल, आवंटी

करार के अनुसार ईडीसी-आइडीसी का पैसे जमा कराने की जिम्मेदारी 3सी कंपनी की है। इस संबंध में दो बार कंपनी को लीगल नोटिस भी भेजा जा चुका है और प्रोजेक्ट का कोई लाइसेंस रद नहीं हुआ। रिन्युअल के लिए लंबित है और रेरा रजिस्ट्रेशन केस में भी डेट लगी हुई है।