# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
80 फीट नहीं बल्कि 99 फीट का ही बनाया जाए वेस्ट जुआ ड्रेन का प्रोजेक्ट:युवराज

बहादुरगढ़:वार्ड-18 से काग्रेसी पार्षद युवराज छिल्लर व वार्ड 28 से पार्षद सत्यप्रकाश छिकारा ने कहा कि भाजपा सरकार ने अपने चहेतों को फायदा पहुचाने के लिए वेस्ट जुआ ड्रेन की चौड़ाई घटाई है। 99 फीट की इस ड्रेन को 80 फीट का बना दिया और इसका बजट भी कई गुणा तक घटा दिया। पार्षदों ने भाजपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि अगर सरकार इस प्रोजेक्ट पर वाकई में काम करना चाहती है तो इसके सभी कब्जे तुरत हटाकर काम शुरू करवाएं ताकि शहर को जाम से मुक्ति मिल सके।

पार्षद युवराज छिल्लर ने कहा कि जब भाजपा सरकार ने इस ड्रेन के प्रोजेक्ट पर कागजों में काम करना शुरू किया था तो हमें भी लगा था कि जल्द ही यह प्रोजेक्ट सिरे चढ़ जाएगा। मेरे वार्ड की विवेकानंद नगर, वेदात नगर व धर्म विहार के लोगों ने खुद ही कब्जे हटाने की पहल भी की थी लेकिन यह सरकार इतनी निकम्मी है कि इस प्रोजेक्ट पर तीन साल बाद भी काम शुरू नहीं किया। सासद दीपेंद्र सिंह हुड्डा के समय इस ड्रेन का प्रोजेक्ट 195 करोड़ का बनाया गया था लेकिन इस सरकार ने न केवल इसकी चौड़ाई कम की बल्कि इस प्रोजेक्ट का बजट भी घटाकर 58 करोड़ कर दिया है। उन्होंने बताया कि ड्रेन के दोनों तरफ इतने चौड़े रोड बनने थे, जिससे यह एक बाईपास की तरह काम करता और शहर के लोगों को इसका फायदा पहुचता लेकिन भाजपा सरकार इस क्षेत्र के साथ पूरी तरह भेदभाव कर रही है। सरकार ने छिल्लर-छिकारा गावों के बाईपास की भी घोषणा की थी लेकिन लोगों ने सरकारी रेट पर जमीन नहीं दी यह कहकर इस योजना को ठडे बस्ते में डाल दिया। उन्होंने हुड्डा सरकार के कार्यकाल में मंजूर हुए प्रोजेक्ट पर जल्द से जल्द काम शुरू करने की माग की है।