# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
हरियाणा की राजनीति अब पलवल से चलेगी : दलाल

पलवल : कांग्रेस विधायक करण दलाल ने कहा है कि अब हरियाणा की राजनीति पलवल से चलेगी। पलवल की उपेक्षा करने वालों को पूरी तरह से सबक सिखाया जाएगा। भाजपा ने तीन साल के कार्यकाल में पलवल से पक्षपात बरता है। आने वाले समय में भाजपा शासन में यहां के लोगों के साथ हुए अन्याय व सौतेले व्यवहार का बदला लिया जाएगा तथा विभिन्न सरकारी महकमों में हो रहे भ्रष्टाचार की जांच कराई जाएगी।

उन्होंने कहा कि सरकारी विभागों में बिना सुविधा शुल्क लिए कोई काम नहीं होता। अधिकारी दफ्तरों में नहीं टिकते। मुख्यमंत्री की घोषणाओं पर भी आज तक काम शुरू नहीं हुआ है। केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गड़करी द्वारा पलवल-अलीगढ़ राजमार्ग का निर्माण शीघ्र कराने की घोषणा की गई थी, लेकिन आज तक काम तो दूर दिल्ली-नोएडा की तरफ से बड़े वाहनों व ट्रकों को यहां से निकालकर सड़क का ही बुरा हाल कर दिया गया है। लोग घंटों जाम में फंसे रहते हैं।

दलाल ने कहा कि नहरों में पानी नहीं आ रहा है और जो पानी आता है, वह दिल्ली का प्रदूषण युक्त पानी आता है। जिससे जिले के गांवों में कैंसर जैसी बीमारियां फैल रही हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि यदि दो माह के अंदर पलवल-अलीगढ़ राजमार्ग का निर्माण व बामनीखेड़ा और रसूलपुर रोड पर रेलवे लाइनों पर पुलों का निर्माण शुरू नहीं हुआ तथा दिल्ली व नोएडा के रास्ते आने वाले बड़े ट्रकों व वाहनों के प्रवेश पर रोक नहीं लगी तो आंदोलन किया जाएगा।

दलाल ने कहा कि पलवल में कानून व्यवस्था का बुरा हाल है। दो माह में जिले में 12 हत्याएं हो चुकी हैं, लेकिन आज तक किसी का हल नहीं निकला है। हाल ही में छह हत्याएं करने के मामले में पुलिस ने अस्पताल संचालक डाक्टरों पर तो मामला दर्ज कर लिया, लेकिन अभी तक दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है।जुनैद की मौत पर तो सरकार ने लाखों रुपये व सरकारी नौकरी दे दी, लेकिन एक साइको किलर द्वारा मारे गए लोगों को तीन-तीन लाख रुपये भीख की तरह दिए जा रहे हैं