News Description
हरियाणा के पूर्व विधायकों ने पेंशन बढ़वाने के लिए खोला मोर्चा

चंडीगढ़: हरियाणा के पूर्व विधायकों ने सरकार से कहा है कि अब हमारी भी चिंता करो। इसके साथ ही पूर्व विधायकों ने पेंशन और अन्य भत्ते बढ़वाने के लिए मोर्चा खोल दिया है। प्रदेश मेें वर्तमान विधायकों का वेतन और भत्ते तीन बार बढ़ चुके, लेकिन पूर्व जनप्रतिनिधियों का मामला अभी तक लटका है। पूर्व विधायक एसोसिएशन का कहना है कि भाजपा सरकार उनकी उपेक्षा कर रही है।

पूर्व विधायकों का कहना है कि विभिन्न स्तरों पर मुद्दा उठाए जाने के बावजूद दो साल से महंगाई भत्ता बंद है और कई अन्य सुविधाएं भी नहीं मिल पा रहीं। दूसरे राज्यों की तुलना में हरियाणा में पूर्व विधायकों की बेसिक पेंशन पांच गुणा तक कम हैपूर्व विधायक एसोसिएशन के प्रधान नफे सिंह राठी की अगुआई में कार्यकारिणी की बैठक में यह मुद्दा उठा। इस बैठक में विभिन्न दलों के बीस से अधिक पूर्व विधायक शामिल थे।

बाद में पत्रकारों से रू-ब-रू एसोसिएशन पदाधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल, विधानसभा अध्यक्ष कंवर पाल गुर्जर और संसदीय कार्यमंत्री राम बिलास शर्मा के सामने यह मसला उठाते हुए विभिन्न राज्यों में पूर्व विधायकों को दी जा रही सुविधाओं की तुलनात्मक रिपोर्ट उन्हें सौंपी जा चुकी।

एसोसिएशन के महासचिव और पूर्व विधायक रण सिंह मान ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने भरोसा दिलाया था कि शीतकालीन सत्र में इस संबंध में बिल लाया जाएगा, लेकिन तीन दिन के सत्र में इस पर कोई चर्चा तक नहीं हुई। अगर बजट सत्र में पूर्व विधायकों के पेंशन और अन्य सुविधाओं को लेकर बिल नहीं लाया गया तो कार्यकारिणी की बैठक बुलाकर अगली रणनीति तय की जाएगी