# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
दोबारा से एचटेट परीक्षा को करवाने की मांग

रोहतक : सरकार ने खुद के नियमों को ताक पर रखकर दिया। फिर, एनसीटीई सिलेबस पैटर्न व नियमों के विरुद्ध जाकर एचटेट की परीक्षा करवाई। इसका स्तर बहुत ऊंचा था और यह कठिन थी। इसलिए इसे निरस्त किया जाए और इसे दोबारा करवाया जाए। ताकि भर्ती प्रक्रिया दोबारा शुरु हो सके।

यह बात फाइन आ‌र्ट्स एसोसिएशन के प्रधान दिग्विजय जाखड़ ने कही। वह पीजीटी व टीजीटी विद्यार्थियों के साथ रविवार को हुडा सिटी पार्क में हुई सभा में लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि सभा में एचटेट के परीक्षार्थियों और विद्यार्थियों ने 23 व 24 दिसंबर को हुए एचटेट की परीक्षा को दोबारा से करवाने की मांग की।साथ ही इस संबंध में शिक्षा मंत्री और मुख्यमंत्री से भी मुलाकाता कर विद्यार्थियों को दोबारा से मौका देने की मांग करने की बात कही है। विद्यार्थियों का कहना है कि प्रश्न पत्र बेहद कठिन था व उसका लेवल 10वीं व 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों को पढ़ाने संबंधी पाठ्यक्रम के हिसाब से उपयुक्त नहीं था। दूसरा कि, विद्यार्थियों के पास तैयारी के लिए पर्याप्त समय नहीं था क्योंकि शिक्षा विभाग ने पाठ्यक्रम में काफी बदलाव कर दिया था।

परीक्षार्थियों ने बताया कि फाइन आ‌र्ट्स एसोसिएशन ने एनसीटीई यानी कि नेशनल काउंसिल फॉर टीचर एजुकेशन के सामने इस संबंध में प्रेजेंटेशन भी दिया है। साथ ही, कोई ठोस जवाब न मिलने के कारण अब वह कोर्ट की शरण लेंगे। परीक्षार्थियों का कहना है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गई तो वह आंदोलन करेंगे।