# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
बिना पतवार चल रही पलवल जिले में शिक्षा विभाग की नाव

पलवल: पलवल जिले में शिक्षा विभाग बिना आला अधिकारियों के ही दौड़ रहा है। सरकार चाहे शिक्षा का स्तर सुधारने के दावे करती रहे, चाहे शिक्षा में गुणवत्ता लाने की, परंतु पलवल जिले में शिक्षा रूपी नाव बिना पतवार के ही चल रही है। जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी व पलवल के खंड शिक्षा अधिकारी के पद को छोड़ कर शेष सभी पद खाली पड़े हैं।

जब से जिला शिक्षा अधिकारी सुरेश धनखड़ सेवानिवृत हुए हैं, तब से ही यह महत्वपूर्ण पद रिक्त पड़ा है। जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी इस पद पर अतिरिक्त रूप से कार्य कर रहे हैं। इससे दोनों कार्यालयों का काम प्रभावित हो रहा है। जिले में डीपीसी का पद भी रिक्त है। इसके अलावा उप जिला शिक्षा अधिकारी के तीनों पद भी रिक्त हैं। डीपीसी व उप जिला शिक्षा अधिकारी के एक पद पर डा.रमेश चंद शर्मा अतिरिक्त रूप से कार्य कर रहे हैं। वे फरीदाबाद में कार्यरत हैं। इससे दोनों जिलों का कार्य प्रभावित हो रहा है।

जिले में खंड शिक्षा अधिकारी के चार पद हैं। ये पद पलवल, होडल, हसनपुर व हथीन के खंडों में हैं। पलवल को छोड़ कर शेष तीनों खंडों में यह पर रिक्त हैं। पलवल में तो अशोक बघेल खंड शिक्षा अधिकारी हैं। जबकि होडल के खंड शिक्षा अधिकारी का कार्यभार वहां के राजकीय कन्या सीनियर सेकेंडरी स्कूल के प्रधानाचार्य जीतपाल ¨सह को, हथीन का कार्यभार राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल बहीन के प्रधानाचार्य सगीर अहमद को तथा हसनपुर का कार्यभार राजकीय सीनियर सेकेंडरी स्कूल हसनपुर के प्रधानाचार्य ज्ञान चंद को दिया हुआ है। इससे इन स्कूलों का तथा खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालयों का कार्य प्रभावित हो रहा है।

जिले में खंड मौलिक शिक्षा अधिकारी के भी चार पद हैं, परंतु चारों ही पद रिक्त हैं। इनका कार्यभार संबंधित खंडों का कार्यभार देख रहे खंड़ व कार्यकारी खंड शिक्षा अधिकारियों के पास है। तीन अधिकारी तो प्रधानाचार्य, खंड शिक्षा अधिकारी व खंड़ मौलिक शिक्षा अधिकारी का कार्य देख रहे हैं। इससे तीनों ही कार्यालयों का कामकाज प्रभावित हो रहा है।