News Description
ओवरलोड वाहनों पर पाबंदी लगाने में प्रशासन सुस्त

सोनीपत: ओवरलोड वाहनों पर पाबंदी लगाने में प्रशासन पूरी तरह से सुस्त नजर आ रहा है। प्रशासन ने एक महीने बाद भी शहर में न तो चेक पोस्ट तैयार किए हैं और न ही सीसीटीवी लगाए हैं। इसके लिए उपायुक्त केएम पांडुरंग सभी अधिकारियों को दिशा-निर्देश दे चुके हैं, इसके बावजूद अधिकारियों ने कोई कदम नहीं उठाया है। ऐसे में ओवरलोड वाहन शहर में धड़ल्ले से दौड़ रहे हैं।

शहर में गुजरते ओवरलोड वाहनों के कारण अक्सर जाम लगता है। इनके कारण किसी भी समय कोई बड़ा हादसा होने का भय रहता है। इससे निपटने के लिए जिला प्रशासन शहर मे ओवरलोड वाहनों की पाबंदी कर दी थी। साथ ही 30 नवंबर से 29 जनवरी तक धारा 144 को भी लागू किया है। इतना ही नहीं 4 दिसंबर को उपायुक्त केएम पांडुरंग ने ओवरलोड वाहनों से निपटने के लिए अधिकारियों की बैठक लेकर योजना बनाई थी। इस दौरान उन्होंने शहर में चेक पोस्ट बनाने व सीसीटीवी लगाने की बात कही थी। अधिकारियों को तुरंत जगह निर्धारित करने के भी आदेश दिए थे तथा ओवरलोड वाहनों पर ड्रोन से निगरानी रखने की भी बात कही थी। उपायुक्त ने कहा था कि निर्धारित स्थानों पर अधिकारियों की टीमों के साथ 24 घंटे पुलिस की निगरानी भी रहेगी। सभी नाके लगातार 24 घंटे काम करेंगे।

इसके लिए विभिन्न विभागों को अधीक्षक व उप-अधीक्षक स्तर के अधिकारियों को शामिल किया गया था। इन आदेशों को अब एक महीना हो गया है, लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। ओवरलोड वाहनों पर पाबंदी के लिए न तो चेक पोस्ट बने हैं और न ही सीसीटीवी लगाए गए हैं। प्रशासन इस मामले में सुस्त नजर आ रहा है। इसका फायदा उठाकर ओवरलोड वाहन शहर में सरेआम दौड़ रहे हैं। उनमें प्रशासनिक कार्रवाई का कोई भय नहीं है।