# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
गोशाला के लिए दी 10 लाख की मदद

 रेवाड़ी : गोसेवा आयोग के चेयरमैन भानीराम मंगला शुक्रवार को नई अनाजमंडी स्थित श्री शिव मोहन गोशाला के कार्यालय पर पहुंचे। इस अवसर पर मौजूद गोशाला के पदाधिकारियों व नई अनाजमंडी के व्यापारियों ने चेयरमैन का स्वागत किया।

चेयरमैन भानीराम मंगला ने जाटूसाना स्थित श्री शिव मोहन गोशाला के लिए 10 लाख रुपये का डिमांड ड्राफ्ट भेंट किया। अपने संबोधन में भानीराम मंगला ने कहा कि जाटूसाना गोशाला में पिछले साल तूफान के कारण जो आपदा आई थी वह बेहद दर्दनाक थी। उस आपदा के बाद गोशाला में निरीक्षण करने के लिए मैं खुद भी गोशाला में गया था। उसी समय गोशाला की मदद के लिए 10 लाख रुपये देने की घोषणा की गई थी। मदद की उस राशि को देने के लिए ही मैं आज रेवाड़ी खुद आया हूं। उन्होंने कहा कि प्रदेश भर में गोशालाओं की स्थिति को सुधारने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। आयोग का प्रयास यही है कि ज्यादा से ज्यादा गोशालाओं को मदद मुहैया कराई जा सके। वहीं विजय कुमार गोयल ने इस अवसर पर गोशाला में गायों के लिए 10 टन गुड अपनी तरफ से दान में दिया। इस अवसर पर गोशाला प्रधान महेंद्र छाबड़ा व अन्य कार्यकारिणी सदस्यों ने आयोग चेयरमैन का आभार भी जताया।

इस अवसर पर गोशाला के पूर्व प्रधान अजय मित्तल, एडवोकेट रणजीत ¨सह, रिपुदमन गुप्ता, शिव कुमार, राजेंद्र मित्तल, विनयशील गोयल, नई अनाजमंडी प्रधान राधेश्याम मित्तल, प्रदीप जैन, सतीश गोयल, सुरेंद्र गुप्ता, अरुण गुप्ता, रमेश शर्मा, राजीव गोयल, मोहित, राजकुमार जैन आदि विशेष तौर पर मौजूद रहे।